सोमवार, 3 मई 2010

क्या लगातार पुराने लोगो से अचानक मिलना कोई संयोग है ?


२० अप्रैल से लेकर २२ अप्रैल तक लगातार मेरा अचानक ही बरसो पुराने बिछड़े हुए ऐसे लोगो से मिलना हुआ , जिनकी न मुझे कोई खबर थी ,न ही मुझे जिनका पता ठिकाना मालूम था और अचानक जिनसे मिलने के बारे में मैंने सोचा न था । हाँ ,उन लोगो को मैं याद जरूर करती थी ..आश्चर्य की बात यह है कि ये सब ऑफिस आने के दोरान ही हुआ , जबकि मैं अप्रैल माह में छुट्टी लेना चाहती थी , जो कि लाख कोशिशों के बावजूद मंजूर नहीं हुई और मुझे ऑफिस ज्वाइन करना पड़ा , जिस क्रम में ये संयोग लगातार घटित हुए।

२० अप्रैल को मेरे कार्यालय में काव्य पाठ प्रतियोगिता थी , जिसमे नागपुर के सभी केंद्रीय कार्यालयों से लोग भाग लेने आये थे , अचानक मेरा मिलना डॉ स्मिता दीदी से हुआ , जो चंद्रपुर में बी एड की पढाई के दोरान मेरे पड़ोस में रहती थी , उस अनजान शहर में वे एकदम अपनी लगती थी और उन्होंने मेरी बहुत मदद की थी , चंद्रपुर से आने केबाद में उनसे कोई संपर्क नहीं रहा और आज अचानक यहाँ नागपुर में उनसे मुलाकात हुई , पता चला कि उनका नागपुर में ही तबादला हो गया है और २ सालों से वे नागपुर में ही है ।
दूसरी घटना हुई २१ अप्रैल को , जब मुझे यहाँ के किसी केंद्रीय कार्यालय में काव्य पाठ प्रतियोगिता में बतौर निर्णायक जाने का मौका मिला , जबकि मैंने वहा दो एक दिन पहले आने के लिए असमर्थता जताई थी , पर वहा जाना संभव हो पाया ,वहा दुसरे निर्णायक के रूप में श्री सुनील कुमार पाल जी मौजूद थे जिनसे बात करने पर पता चला की वे भी मेरे ही गृह नगर के है , हालाँकि हमारी मुलाकात पहले नहीं हुई थी लेकिन वे मेरे बहुत से सहपाठियो के संपर्क में थे , और उन्होंने मेरी अपने पुराने मित्रो से तुरंत फ़ोन पर बात कराइ ।

इसके दुसरे ही दिन सुबह सुबह मेरी एक पूर्व परिचित से अचानक मिलना हुआ , जो किसी कार्य से नागपुर आई थी ,और जिनके यहाँ वे रुकी थी , वे मुझे जानते थे । इस तरह उनके माध्यम से वे मुझ से पुनः मिल पाई ॥

लगातार और अचानक हुए इन संयोगों से मैं यह सोचने पर मजबूर हो गयी कि क्या सब कुछ पूर्व निर्धारित रहता है कि कौन कब कहा किस से मिलेगा ? कभी तो एक ही स्थान पर रहते हुए लोग आपसमें नहीं मिल पाते और कभीहजारों किलोमीटर कीदूरी पर बसे हुए आपके किसी पुराने परिचित से आपकी मुलाकात सहज ही हो जाती है ... वाकई दुनिया गोल है ॥

"ये दुनिया वाकई गोल है ,
मिलना बिछड़ना फिर से मिलना एक अनोखा खेल है
कहीं तो साथ साथ रहते हुए मिलते नहीं है दिल
तो कहीं लाख दूरियों के बीच भी मनो का होता मेल है .."

4 टिप्‍पणियां:

राज भाटिय़ा ने कहा…

हां जी यह एक संयोग ही है

शरद कोकास ने कहा…

जब जब ऐसा होता है जीवन के प्रति आस्था बढ़ जाती है ।

राकेश कौशिक ने कहा…

"मिलना बिछड़ना फिर से मिलना एक अनोखा खेल है
कहीं तो साथ साथ रहते हुए मिलते नहीं है दिल
तो कहीं लाख दूरियों के बीच भी मनो का होता मेल है .."
ये दुनिया वाकई गोल है"
जी हाँ बिलकुल सही और कितना सुखद लगता है जब कोई अचानक मिलता है विशेषकर बचपन का साथी - धन्यवाद्

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

दुनिया बहुत छोटी है. लोग रोज़ मिलते हैं मगर जब अपने मिलते हैं तो हम उन्हें तुरंत पहचान लेते हैं.