शुक्रवार, 13 मार्च 2009

निकट भविष्य में वह समय आएगा



निकट भविष्य में वह समय आएगा ,


जब इन्सान रिमोट से संचालित होने वाला यन्त्र बन जायेगा


पति का रिमोट पत्नी के हाथ और बहु का रिमोट सास के पास होगा ,


सब एक दूसरे पर नियंत्रण रखने की करेंगे कोशिश, पर कोई भी सही ढंग से नियंत्रित ना होने पायेगा ।


निकट भविष्य में वह समय आएगा ,


जब पेट्रोल डीजल के सारे भंडार ख़तम हो जायेंगे,


और पेर्तोल-डीजल पम्पों की जगह शुद्ध वायु , शुद्ध पानी पम्प खुल जायेंगे ,


लोग लम्बी लम्बी कतारों में लग कर हजारों लाखों रूपये में कुछ घूंट पानी और कुछ मिनिट तक शुद्ध वायु का सेवन करेंगे ,


आने जाने के लिए इन्सान या तो साईकिल का इस्तेमाल करेगा या फिर उड़ना सीखेगा ,


और वर्तमान की कारों , गाड़ियों का इस्तेमाल घरों के रूप में किया जायेगा ।


निकट भविष्य में वह समय आएगा ,


जब दिन भर का भोजन एक टेबलेट में समा जायेगा ,


दवा की दूकानों में उन गोलियों के लिए लगी होगी लम्बी लम्बी कतारें ,


पर उसके लिए भी पहचान पत्र और राशन कार्ड बनवाया जाएगा ,


प्रति सदस्य १ टेबलेट के हिसाब से १५-१५ दिन की टेबलेट ही दी जायेगी ,


सब अपनी अपनी टेबलेट अपने पर्स या अपनी जेब में लेकर चलेंगे ,


और शादी ब्याह जन्मदिन इत्यादि मोको पर खाने पीने का कोई आयोजन ही नही रह जाएगा




13 टिप्‍पणियां:

neeshoo ने कहा…

कल्पनाशील होना अच्छी बात है । ऐसा दृश्य होगा तो कैसा होगा सब । चलिये जी बढ़िया ही है अब ।

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र ने कहा…

यानि कि हर काम र्रिमोट से संचालित होंगे.......अच्छी खबर दी है . ...फिर तो ब्लॉग भी रिमोट लिखेंगे फिर ब्लागर क्या करेंगे ? हा हा बहुत बढ़िया है . बधाई

Udan Tashtari ने कहा…

सही परिकल्पना की है..

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र ने कहा…

काश वो दिन आ जाये कन्या की
शादी में जादा खर्चा नहीं उठाना पड़ेगा ..

संगीता पुरी ने कहा…

देखिए ... निकट भविष्‍य में क्‍या क्‍या होता है।

राज भाटिय़ा ने कहा…

काहे को डरा रहे हो भाई

रचना गौड़ ’भारती’ ने कहा…

ब्लोगिंग जगत में स्वागत है
लगातार लिखते रहने के लि‌ए शुभकामना‌एं
सुन्दर रचना के लि‌ए बधा‌ई
भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
http://www.rachanabharti.blogspot.com
कहानी,लघुकथा एंव लेखों के लि‌ए मेरे दूसरे ब्लोग् पर स्वागत है
http://www.swapnil98.blogspot.com
रेखा चित्र एंव आर्ट के लि‌ए देखें
http://chitrasansar.blogspot.com

bhootnath( भूतनाथ) ने कहा…

aane vale samay kaa badaa hi rochak....yaa kahun ki bada hi bhyaavah khaka kheencha hai aapne...padhkar badaa mazaa aayaa..ya kahun ki dar lagaa....!!

गर्दूं-गाफिल ने कहा…

अच्छा है ,
आप को भविष्य दिखाई देता है
कम शब्दों में व्यंग भी हास्य भी और पीड़ा भी ।
शायद चेत जाए ये जग

गर्दूं-गाफिल ने कहा…

तर्क अच्छे हैं । कश्मीर की पीड़ा पर भी कुछ लिखिए

गर्दूं-गाफिल ने कहा…

sorry for unrelated comment

गर्दूं-गाफिल ने कहा…

kya chhutti pr hain . naya kuchh likhiye

स्वाति ने कहा…

theek samjhe . wakai chhutti par hu , aagami rachna thode dino bad.